Included with a Kindle Unlimited membership.
₹ 250.00
  • Inclusive of all taxes
Fulfilled
In stock.
Other Sellers on Amazon
₹ 200.00
+ ₹ 68.00 Delivery charge
Sold by: Milind Prakashan
₹ 210.00
+ ₹ 80.00 Delivery charge
Sold by: Anand_Prakashan
Have one to sell?
Flip to back Flip to front
Listen Playing... Paused   You're listening to a sample of the Audible audio edition.
Learn more.

Follow the Author

Something went wrong. Please try your request again later.


Krishnakali (Hindi) Paperback – 1 January 2019

4.4 out of 5 stars 40 ratings

See all formats and editions Hide other formats and editions
Price
New from
Paperback
₹ 250.00
₹ 200.00
FREE delivery: Tuesday, May 18 on orders over ₹ 499.00 shipped by Amazon Details

Save Extra with 3 offers

Cashback (3): Get up to ₹300 back on Amazon Pay ICICI credit card approval. And get 5% back for prime members and 3% for others See All
No Cost EMI: Avail No Cost EMI on select cards for orders above ₹3000 Details
Amazon Delivered
Amazon directly manages delivery for this product. Order delivery tracking to your doorstep is available.
No-Contact Delivery

Delivery Associate will place the order on your doorstep and step back to maintain a 2-meter distance.

No customer signatures are required at the time of delivery.

For Pay-on-Delivery orders, we recommend paying using Credit card/Debit card/Netbanking via the pay-link sent via SMS at the time of delivery. To pay by cash, place cash on top of the delivery box and step back.

Enhance your purchase


Frequently bought together

  • Krishnakali
  • +
  • Chaudah Phere
  • +
  • Atithi
Total price: 705,00 ₹
Buy the selected items together

Product description

About the Author

गौरा पंत 'शिवानी' का जन्म 17 अक्टूबर 1923 को विजयादशमी के दिन राजकोट (गुजरात) में हुआ । आधुनिक अग्रगामी विचारों के समर्थक पिता श्री अश्वनीकुमार पाण्डे राजकोट स्थित राजकुमार कॉलेज के प्रिंसिपल थे, जो कालांतर में माणबदर और रामपुर की रियासतों में दीवान भी रहे । माता और पिता दोनों ही विद्वान, संगीतप्रेमी और कईं भाषाओं के ज्ञाता थे । साहित्य और संगीत के पति एक गहरी रुझान 'शिवानी' को उनसे ही मिली । शिवानी जी के पितामह संस्कृत के प्रकांड विद्वान पं. हरिराम पाण्डे, जो बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में धर्मोपदेशक थे, परम्परानिष्ठ और कटूटर सनातनी थे । महामना मदनमोहन मालवीय से उनकी गहन मैत्री थी । वे प्राय: अल्मोड़ा तथा बनारस में रहते थे, अत: अपनी बड़ी बहन तथा भाई के साथ शिवानी जी का बचपन भी दादाजी को छत्रछाया में उक्त स्थानों पर बीता । उनकी किशोरावस्था शान्तिनिकेतन में, और युवावस्था अपने शिक्षाविद पति के साथ उत्तर प्रदेश के विभिन्न भागों में । पति के असामयिक निधन के बाद वे लम्बे समय तक लखनऊ में रहीं और अन्तिम समय में दिल्ली में अपनी बेटियों तथा अमरीका में बसे पुत्र के परिवार के बीच अधिक समय बिताया । उनके लेखन तथा व्यक्तित्व में उदारवादिता और परम्परानिष्ठता का जो अदभुत मेल है, उसकी जडें इसी विविधमयतापूर्ण जीवन में थीं । शिवानी की पहली रचना अल्मोड़ा से निकलनेवाली 'नटखट' नामक एक बाल पत्रिका में छपी थी । तब वे मात्र बारह वर्ष की थीं । इसके बाद वे मालवीय जी की सलाह पर पढ़ने के लिए अपनी बडी बहन जयंती तथा भाई त्रिभुवन के साथ शान्तिनिकेतन भेजी गई, जहाँ स्कूल तथा कॉलेज की पत्रिकाओं में बांग्ला में उनकी रचनाएँ नियमित रूप से छपती रहीं । गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर उन्हें 'गोरा' पुकारते थे । उनकी ही सलाह, कि हर लेखक को मातृभाषा में ही लेखन करना चाहिए, शिरोधार्य कर उन्होंने हिन्दी में लिखना प्रारम्भ किया । 'शिवानी' की पहली लघु रचना "मैं मुर्गा हूँ’ 1951 में धर्मयुग में छपी थी । इसके बाद आई उनकी कहानी 'लाल हवेली' और तब से जो लेखन-क्रम शुरू हुआ, उनके जीवन के अन्तिम दिनों तक अनवरत चलता रहा । उनकी अन्तिम दो रचनाएँ ‘सुनहुँ तात यह अकथ कहानी' तथा 'सोने दे' उनके विलक्षण जीवन पर आधारित आत्मवृत्तात्मक आख्यान हैं । 1979 में शिवानी जी को पदूमश्री से अलंकृत किया गया । उपन्यास, कहानी, व्यक्तिचित्र, बाल उपन्यास और संस्मरणों के अतिरिक्त, लखनऊ से निकलनेवाले पत्र 'स्वतंत्र भारत' के लिए 'शिवानी' ने वषों तक एक चर्चित स्तम्भ 'वातायन' भी लिखा । उनके लखनऊ स्थित आवास-66, गुलिस्तां कालोनी के द्वार लेखकों, कलाकारों, साहित्य-प्रेमियों के साथ समाज के हर वर्ग से जुड़े उनके पाठकों के लिए सदैव खुले रहे । 21 मार्च 2003 को दिल्ली में 79 वर्ष की आयु में उनका निधन हुआ ।.

Enter your mobile number or email address below and we'll send you a link to download the free Kindle App. Then you can start reading Kindle books on your smartphone, tablet, or computer - no Kindle device required.

  • Apple
    Apple
  • Android
    Android
  • Windows Phone
    Windows Phone

To get the free app, enter mobile phone number.

kcpAppSendButton

Product details

  • Publisher : Radhakrishna Prakashan (1 January 2019)
  • Language : Hindi
  • Paperback : 232 pages
  • ISBN-10 : 8183619177
  • ISBN-13 : 978-9326350686
  • Item Weight : 360 g
  • Dimensions : 20 x 14 x 4 cm
  • Country of Origin : India
  • Customer Reviews:
    4.4 out of 5 stars 40 ratings

Customer reviews

4.4 out of 5 stars
4.4 out of 5
40 global ratings
How are ratings calculated?

Top reviews from India

Reviewed in India on 24 August 2018
Verified Purchase
Customer image
5.0 out of 5 stars Shivani touches you deeply
By Meera on 24 August 2018
I had already read this some 40 years ago but reading it again raised similar emotions and gave pleasure. That’s what a classic is.
Images in this review
Customer image
Customer image
4 people found this helpful
Report abuse
Reviewed in India on 8 August 2020
Verified Purchase
One person found this helpful
Report abuse
Reviewed in India on 14 April 2021
Verified Purchase
Reviewed in India on 30 January 2020
Verified Purchase
Reviewed in India on 5 December 2020
Verified Purchase
Reviewed in India on 10 July 2020
Verified Purchase
Reviewed in India on 6 October 2019
Verified Purchase
One person found this helpful
Report abuse
Reviewed in India on 16 June 2020