Enter your mobile number or email address below and we'll send you a link to download the free Kindle App. Then you can start reading Kindle books on your smartphone, tablet, or computer - no Kindle device required.

  • Apple
    Apple
  • Android
    Android
  • Windows Phone
    Windows Phone
  • Click here to download from Amazon appstore
    Android

To get the free app, enter mobile phone number.

kcpAppSendButton

Buying Options

Read this title for free. Learn more
Read for Free
OR
Digital List Price:    51.45
Kindle Price:    5.90

Save    169.10 (97%)

inclusive of all taxes

includes free wireless delivery via Amazon Whispernet
View eBooks cart Available in eBooks cart

These promotions will be applied to this item:

Some promotions may be combined; others are not eligible to be combined with other offers. For details, please see the Terms & Conditions associated with these promotions.

Deliver to your Kindle or other device

Buy for others

Give as a gift or purchase for a team or group.Learn more

Buying and sending Kindle eBooks to others

Select quantity
Buy and send Kindle eBooks
Recipients can read on any device

These ebooks can only be redeemed by recipients in the India. Redemption links and eBooks cannot be resold.

Quantity: 
This item has a maximum order quantity limit.

Deliver to your Kindle or other device

Kindle App Ad
Malti Joshi ki Lokpriya Kahaniyan (Hindi Edition) by [MALTI JOSHI]

Follow the Author

Something went wrong. Please try your request again later.


Malti Joshi ki Lokpriya Kahaniyan (Hindi Edition) Kindle Edition

4.6 out of 5 stars 46 ratings

See all formats and editions Hide other formats and editions
Price
New from
Kindle Edition
₹ 5.90

Explore Our Collection Of Hindi eBooks

Click here to browse eBooks by Surendra Mohan Pathak, Munshi Premchand, Devdutt Pattanaik, Harivansh Rai Bachchan and more authors.


From the Publisher

Malti Joshi ki Lokpriya Kahaniyan by MALTI JOSHI

Malti Joshi ki Lokpriya Kahaniyan by MALTI JOSHI

मालती जोशी एक हिन्दी लेखिका हैं, जिन्हें २०१८ में साहित्य तथा शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदानों के लिए पद्म श्री से सम्मानित किया गया।

  • मालती जोशी का जन्म ४ जून १९३४ को औरंगाबाद में हुआ था। आपने आगरा विश्वविद्यालय से वर्ष १९५६ में हिन्दी विषय से एम.ए. की शिक्षा ग्रहण की। अब तक अनगिनत कहानियां, बाल कथायें व उपन्यास प्रकाशित कर चुकी हैं। इनमें से अनेक रचनाओं का विभिन्न भारतीय व विदेशी भाषाओं में अनुवाद भी किया जा चुका है। कई कहानियों का रंगमंचन रेडियो व दूर दर्शन पर नाट्य रूपान्तर भी प्रस्तुत किया जा चुका है। कुछ पर जया बच्चन द्वारा दूरदर्शन धारावाहिक सात फेरे का निर्माण किया गया है तथा कुछ कहानियां गुलज़ार के दूरदर्शन धारावाहिक किरदार में तथा भावना धारावाहिक में शामिल की जा चुकी हैं।
  • इन्हें हिन्दी व मराठी की विभिन्न व साहित्यिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित व पुरस्कृत किया जा चुका है। मध्य प्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन द्वारा वर्ष १९९८ के भवभूति अलंकरण सम्मान से विभूषित किया जा चुका है। मालती जोशी जी कि कहानियां मन को छूने वाली होती हैं। अपनी कहानियों के बारे में, वे कहती हैं,
  • मालती जोशी की कहानियों के साथ उनके लाखों प्रशंसक अपनी जिंदगी का ताना-बाना बुनते हैं। एकदम सहज और घरेलू होने के बाद भी उनकी कहानियाँ बहुत बड़ा सामाजिक संदेश दे जाती हैं। ये कहानियाँ संस्कारों का भंडार हैं। मानवीय संवेदनाओं के सूक्ष्मतम स्पंदनों को भी अपने शब्दों में बाँधने की क्षमता रखनेवाली मालतीजी अपनी सहज प्रवाहमय भाषा शैली के माध्यम से कब पाठकों के मन की गहराई में उतर जाती हैं, पता ही नहीं चलता। आज मालतीजी की कहानियाँ समाज के हर वर्ग में, चाहे वो गृहिणी हो या कामकाजी महिला, बड़े पदों पर पदस्थ व्यक्ति है या अपनी सीमित आय में कठिनाई से जीवनयापन करनेवाला साधारण व्यक्ति, नवविवाहित हो या वानप्रस्थ की ओर जाते दंपति हो, गाँव-देहात में पढ़नेवाला युवा हो या महानगरों में बड़े प्रोफेशनल कॉलेज में पढ़नेवाला युवा, गरज ये कि सभी वर्गों में सभी पीढि़यों में आदर और सम्मान के साथ ग्रहण की जाती हैं।
  • यही कारण है कि आज मालती जोशी की कहानियों को बिखरते परिवारों को फिर से एक सूत्र में पिरोने की क्षमता रखनेवाले आशा के केंद्र के रूप में देखा जाता है। अपनी इस विलक्षण रचनाधर्मिता में मालतीजी ने एक नया आयाम जोड़ा है— कथा कथन का। मराठी की एक प्रचलित विधा का हिंदी में प्रयोग सर्वथा नया और अनूठा है।
  • मालतीजी अपनी पूरी कहानी बिना पढ़े, बिना देखे भावों का सम्मिश्रण करते हुए पाठकों को सुनाती हैं। कथा सुननेवाले कहानी से, कथ्य से तो मुग्ध होते ही हैं, मालतीजी की शैली से भी चमत्कृत हो जाते हैं।

==========================================================================================================

अनुक्रम

भूमिका — 7

1. परिणय — 11

2. कैलक्यूलेशन — 36

3. पिता — 41

4. तुम मेरी राखो लाज हरि — 52

5. आखिरी शर्त — 68

6. बहुरि अकेला — 75

7. इच्छाओं का अनंत आकाश — 91

8. मोरी रँग दी चुनरिया — 98

9. साजिश — 120

10. अंतिम संक्षेप — 126

11. शापित शैशव — 148

Product details

  • ASIN : B079W5YHYH
  • Publisher : Prabhat Prakashan (1 January 2016)
  • Language : Hindi
  • File size : 1040 KB
  • Text-to-Speech : Enabled
  • Screen Reader : Supported
  • Enhanced typesetting : Enabled
  • Word Wise : Not Enabled
  • Print length : 184 pages
  • Customer Reviews:
    4.6 out of 5 stars 46 ratings

Customer reviews

4.6 out of 5 stars
4.6 out of 5
46 global ratings
5 star
67%
4 star
29%
3 star
4%
2 star 0% (0%) 0%
1 star 0% (0%) 0%
How are ratings calculated?

Review this product

Share your thoughts with other customers

Top reviews from India

Translate all reviews to English
Reviewed in India on 21 June 2018
Verified Purchase
3 people found this helpful
Report abuse
Reviewed in India on 24 February 2019
Verified Purchase
Reviewed in India on 10 November 2018
Verified Purchase
Reviewed in India on 14 June 2018
Verified Purchase
One person found this helpful
Report abuse
Reviewed in India on 18 April 2020
Verified Purchase
Reviewed in India on 22 June 2018
Verified Purchase
One person found this helpful
Report abuse
Reviewed in India on 5 June 2019
Verified Purchase
Reviewed in India on 27 January 2018
Verified Purchase
One person found this helpful
Report abuse