Enter your mobile number or email address below and we'll send you a link to download the free Kindle App. Then you can start reading Kindle books on your smartphone, tablet, or computer - no Kindle device required.

  • Apple
    Apple
  • Android
    Android
  • Windows Phone
    Windows Phone
  • Click here to download from Amazon appstore
    Android

To get the free app, enter mobile phone number.

kcpAppSendButton

Buying Options

Digital List Price:    157.77
Kindle Price:    115.64

Save    1,303.36 (92%)

inclusive of all taxes

includes free wireless delivery via Amazon Whispernet

These promotions will be applied to this item:

Some promotions may be combined; others are not eligible to be combined with other offers. For details, please see the Terms & Conditions associated with these promotions.

Deliver to your Kindle or other device

Deliver to your Kindle or other device

<Embed>
Kindle App Ad
Mansarovar 1 (मानसरोवर 1, Hindi): प्रेमचंद की मशहूर कहानियाँ (Hindi Edition) by [Premchand, GP Editors]

Follow the Authors

Something went wrong. Please try your request again later.


Mansarovar 1 (मानसरोवर 1, Hindi): प्रेमचंद की मशहूर कहानियाँ (Hindi Edition) Kindle Edition

4.4 out of 5 stars 240 ratings

See all formats and editions Hide other formats and editions
Price
New from
Kindle Edition, 1 April 2017
₹ 115.64

Explore Our Collection Of Hindi eBooks

Click here to browse eBooks by Surendra Mohan Pathak, Munshi Premchand, Devdutt Pattanaik, Harivansh Rai Bachchan and more authors.

Product description

About the Author

प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई, 1880 को वाराणसी के निकट लम्ही ग्राम में हुआ था। उनके पिता अजायब राय पोस्ट ऑफ़िस में क्लर्क थे। वे अजायब राय व आनन्दी देवी की चौथी संतान थे। पहली दो लड़कियाँ बचपन में ही चल बसी थीं। तीसरी लड़की के बाद वे चौथे स्थान पर थे। माता पिता ने उनका नाम धनपत राय रखा।

सात साल की उम्र से उन्होंने एक मदरसे से अपनी पढ़ाई-लिखाई की शुरुआत की जहाँ उन्होंने एक मौलवी से उर्दू और फ़ारसी सीखी। जब वे केवल आठ साल के थे तभी लम्बी बीमारी के बाद आनन्दी देवी का स्वर्गवास हो गया। उनके पिता ने दूसरी शादी कर ली परंतु प्रेमचंद को नई माँ से कम ही प्यार मिला। धनपत को अकेलापन सताने लगा।

किताबों में जाकर उन्हें सुकून मिला। उन्होंने कम उम्र में ही उर्दू, फ़ारसी और अँग्रेज़ी साहित्य की अनेकों किताबें पढ़ डालीं। कुछ समय बाद उन्होंने वाराणसी के क्वींस कॉलेज में दाख़िला ले लिया।

1895 में पंद्रह वर्ष की आयु में उनका विवाह कर दिया गया। तब वे नवीं कक्षा में पढ़ रहे थे। लड़की एक सम्पन्न ज़मीदार परिवार से थी और आयु में उनसे बढ़ी थी। प्रेमचंद ने पाया कि वह स्वभाव से बहुत झगड़ालू है और कोई ख़ास सुंदर भी नहीं है। उनका यह विवाह सफ़ल नहीं रहा। उन्होंने विधवा-विवाह का समर्थन करते हुए 1906 में बाल-विधवा शिवरानी देवी से दूसरा विवाह कर लिया। उनकी तीन संताने हुईं–श्रीपत राय, अमृत राय और कमला देवी श्रीवास्तव।

1897 में अजायब राय भी चल बसे। प्रेमचंद ने जैसे-तैसे दूसरे दर्जे से मैट्रिक की परीक्षा पास की। तंगहाली और गणित में कमज़ोर होने की वजह से पढ़ाई बीच में ही छूट गई। बाद में उन्होंने प्राइवेट से इंटर व बी.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की।

वाराणसी के एक वकील के बेटे को 5 रु. महीना पर ट्यूशन पढ़ाकर ज़िंदगी की गाड़ी आगे बढ़ी। कुछ समय बाद 18 रु. महीना की स्कूल टीचर की नौकरी मिल गई। सन् 1900 में सरकारी टीचर की नौकरी मिली और रहने को एक अच्छा मकान भी मिल गया।

धनपत राय ने सबसे पहले उर्दू में ‘नवाब राय’ के नाम से लिखना शुरू किया। बाद में उन्होंने हिंदी में प्रेमचंद के नाम से लिखा। प्रेमचंद ने 14 उपन्यास, 300 से अधिक कहानियाँ, नाटक, समीक्षा, लेख, सम्पादकीय व संस्मरण आदि लिखे। उनकी कहानियों का अनुवाद विश्व की अनेक भाषाओं में हुआ है। प्रेमचंद ने मुंबई में रहकर फ़िल्म ‘मज़दूर’ की पटकथा भी लिखी।

प्रेमचंद काफ़ी समय से पेट के अलसर से बीमार थे, जिसके कारण उनका स्वास्थ्य दिन-पर-दिन गिरता जा रहा था। इसी के चलते 8 अक्तूबर, 1936 को क़लम के इस सिपाही ने सब से विदा ले ली। --This text refers to an alternate kindle_edition edition.

Product details

Customer reviews

4.4 out of 5 stars
4.4 out of 5
240 customer ratings
How does Amazon calculate star ratings?

Review this product

Share your thoughts with other customers

Read reviews that mention

Reviewed in India on 28 September 2015
Verified Purchase
14 people found this helpful
Comment Report abuse
Reviewed in India on 1 April 2016
Verified Purchase
5 people found this helpful
Comment Report abuse
Reviewed in India on 23 October 2018
Verified Purchase
Reviewed in India on 9 February 2019
Verified Purchase
Reviewed in India on 26 January 2018
Verified Purchase
Reviewed in India on 24 July 2016
Verified Purchase
One person found this helpful
Comment Report abuse
Reviewed in India on 23 September 2018
Verified Purchase
Reviewed in India on 2 March 2019
Verified Purchase

Top international reviews

Divya Sharma
5.0 out of 5 stars Loved it
Reviewed in the United Kingdom on 15 January 2020
Verified Purchase
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
Manoj Kumar
5.0 out of 5 stars Excellent stories
Reviewed in the United States on 29 March 2019
Verified Purchase
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
PCs compare
4.0 out of 5 stars Four Stars
Reviewed in the United States on 25 April 2016
Verified Purchase
One person found this helpful
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
Shilpa Bhide
3.0 out of 5 stars Refreshing!
Reviewed in the United States on 4 January 2017
Verified Purchase
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
Pankaj Sehgal
5.0 out of 5 stars Good To Read
Reviewed in the United States on 14 December 2017
Verified Purchase
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
Amazon Customer
5.0 out of 5 stars Good book
Reviewed in the United States on 3 January 2017
Verified Purchase
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
Tushar Gupta
5.0 out of 5 stars Ohh Premchand !!
Reviewed in the United States on 27 May 2016
Verified Purchase
One person found this helpful
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
Akash
5.0 out of 5 stars Five Stars
Reviewed in the United States on 19 July 2017
Verified Purchase
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
Amazon Customer
5.0 out of 5 stars Very good read.
Reviewed in the United States on 17 June 2016
Verified Purchase
Sending feedback...
Thank you for your feedback.
Report abuse
click to open popover