Customer Review

Reviewed in India on 3 May 2020
सहज, सरल किंतु मर्म में ऐसी गहराई लिए हए की अंतरात्मा को छू जाये, ऐसी ही होती हैं प्रेमचंद की संरचनायें। p
0Comment Report abuse Permalink

Product Details

4.2 out of 5 stars
4.2 out of 5
113 customer ratings