Customer Review

Reviewed in India on 5 October 2020
यह पुस्तक नहीं वरन जीवन को जीने का तरीका सिखाती है। सकारात्मक सोच, किस प्रकार हमारे अंदरूनी और बाहरी व्यक्तित्व को प्रभावित कर सकती है, यह हम इस पुस्तक से जान पाते है। हम एक चुम्बक की तरह है , जो आकर्षण के सिद्धांत के चलते चीजों, परिस्थितियों को अपनी ओर आकर्षित करते है। यदि हमें जीवन में अपने लक्ष्य को प्राप्त करना है , तो शुरुआत से ही उस लक्ष्य की प्राप्ति के बारे में सोचना होगा, उसीमें जीने का स्वांग करना होगा। ऐसा करने से हमारा मस्तिष्क , ब्रम्हांड में उसी अनुरूप संकेत भेजेगा और धीरे- धीरे हम अपने लक्ष्य की और बढ़ते चलेंगे। सकारात्मक सोच ही आपके जीवन में सकारात्मकता को आकर्षित करेगी। इसलिये निराश न होकर आशावादी बनिये और सकारात्मक सोच को बनाकर रखिये ; सफलता आपके कदम चूमेगी।
review imagereview imagereview image
One person found this helpful
0Comment Report abuse Permalink

Product Details

4.5 out of 5 stars
4.5 out of 5
2,338 global ratings