Customer Review

Reviewed in India on 17 June 2020
जॉन एलिया अज़ब गज़ब शायर की शुरआत के कुछ पन्ने पढ़ते ही आप इस क़दर खोने लगेंगे की पूरी किताब जल्द से जल्द खत्म करना चाहेंगे ...... और शेर पढ़ते हुए बहुत से शेर ऐसे मिलेंगे जिसपे आप ठहर जाएंगे।

जैसा कि मुन्तजिर फिरोजाबादी ने भी कहा है आप शायरी के एडिक्टेड होने लगेंगे । और फिर मजा आएगा... जरूर पढ़ें।
इसको पढ़ते हुए पता चलता है कि जो शेर अपने फ़ेसबुक पे आपने अनजाने में चिपका रखा है वो दरअसल जॉन एलिया का है ।
मुन्तजिर फिरोजाबादी जी का शुक्रिया ।
9 people found this helpful
Report abuse Permalink

Product Details

4.5 out of 5 stars
4.5 out of 5
223 global ratings