Customer Review

Reviewed in India on 10 October 2019
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

बशीर बद्र
3 people found this helpful
Report abuse Permalink

Product Details

4.6 out of 5 stars
4.6 out of 5
159 global ratings